Monday, June 24, 2024

औषधीय और खाद्य मशरूम की खेती पर वर्चुअल प्रशिक्षण सह प्रदर्शन कार्यक्रम

More articles

Vijaya Dimri
Vijaya Dimrihttps://bit.ly/vijayadimri
Editor in Chief of Uttarakhand's popular Hindi news website "Voice of Devbhoomi" (voiceofdevbhoomi.com). Contact voiceofdevbhoomi@gmail.com

‘आजादी का अमृत महोत्सव’ मनाने के लिए और मशरूम दिवस के अवसर पर, जो हर साल 15 अक्टूबर को मनाया जाता है, 23 अक्टूबर, 2021 को वन रोग शाखा, वन अनुसंधान संस्थान, देहरादून द्वारा ‘औषधीय और खाद्य मशरूम की खेती’ पर एक ऑनलाइन प्रशिक्षण सह प्रदर्शन कार्यक्रम आयोजित किया गया । उत्तरांचल विश्वविद्यालय, अल्पाइन संस्थान, डॉल्फिन पी.जी. जैव चिकित्सा और प्राकृतिक विज्ञान संस्थान, दून पी.जी. कॉलेज और एफआरआई सम विश्वविद्यालय, देहरादून के 100 से अधिक प्रतिभागी कार्यक्रम में शामिल हुए। महानिदेशक, आईसीएफआरई, श्री अरुण सिंह रावत ने प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन किया और उच्च पोषक तत्व और औषधीय क्षमता के कारण बड़े पैमाने पर मशरूम की खेती की आवश्यकता पर बल दिया। आभासी प्रशिक्षण कार्यक्रम अपनी तरह का एक अनूठा कार्यक्रम था क्योंकि यह ओस्टर और गैनोडरमा की खेती का चरणबद्ध लाइव प्रदर्शन था। उद्यमी जैसे श्री. गुरशरण बाजवा,एमडी,दून ईगल प्राइवेट लिमिटेड और श्री प्रमोद चौरसिया, निदेशक, कृषि वन दून प्राo लिमिटेड विशेष आमंत्रित वक्ता थे जिन्होंने प्रतिभागियों के साथ अपने वाणिज्यिक उत्पादों, उद्यमों और अनुभवों को साझा किया। मशरूम की खपत के लाभ, महत्वपूर्ण खाद्य और औषधीय मशरूम, स्पॉन तैयार करने सहित खेती की तकनीक, सब्सट्रेट उपचार, बैग तैयार करना, स्पॉन मिश्रण, कटाई, उपयोग और मशरूम के सामान्य दूषित पदार्थों पर चर्चा की गई। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में डॉ. अमित पाण्डेय, डॉ. विपिन प्रकाश, डॉ. शैलेश पाण्डेय, सुश्री रंजना जुवांठा, डॉ. मनोज कुमार और श्री संतोष वन रोग शाखा,एफआरआई से प्रमुख वक्ता थे।

spot_img

Latest

error: Content is protected !!